EV Charging Station: सरकारी तेल कंपनियां लगाएगी 22 हजार चार्जिंग स्टेशन, आप भी ऐसे उठा सकते हैं फायदा

EV Charging Station । देश में जैसे जैसे इलेक्ट्रिक व्हीकल्स तेजी से लॉन्च हो रही है, वैसे ही इलेक्ट्रिक चार्जिंग स्टेशन का भी जाल फैल रहा है। हालांकि अभी यह काम शुरुआती स्तर पर है, लेकिन काम में धीरे-धीरे तेजी भी आ रही है। हाल ही में पेट्रोलियम मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने कहा है कि देश की सरकारी पेट्रोलियम कंपनी HPC, BPCL और IOC 22 हजार से ज्यादा Electric Vehicle चार्जिंग स्टेशन लगाने वाली है। केंद्रीय मंत्री हरदीप पुरी ने बताया कि BPCL देश में 7000 EV चार्जिंग स्टेशन लगाएग, वही हिदुस्तान पेट्रोलियम 5000 और इंडियन ऑयल कॉर्पोरेशन कुल 10,000 इलेक्ट्रिक व्हीकल चार्जिंग स्टेशन लगाएगी।

महानगरों में तेजी से हो रहा काम

इलेक्ट्रिक व्हीकल चार्जिंग स्टेशन लगाने का काम सिर्फ नेशनल या स्टेट हाईवे पर ही नहीं, बल्कि बाजार में भी तेजी से हो रहा है। पेट्रोल पंपों को भी अपने कैंपस में Electric Vehicles Carging Station लगाने की सुविधाएं दी जा रही है।

Electric Vehicle Mutual Funds: इलेक्ट्रिक व्हीकल सेगमेंट में करें निवेश, ये म्यूचुअल फंड देंगे बंपर फायदा

इलेक्ट्रिक व्हीकल को लेकर ये है केंद्र सरकार की पॉलिसी

केंद्र सरकार वर्ष 2030 तक प्राइवेट कारों के लिए 30 फीसदी, कॉमर्शियल व्हीकल लिए 70 फीसदी, बसों के लिए 40 फीसदी और दोपहिया और तिपहिया वाहनों के लिए 80 फीसदी की बिक्री का लक्ष्य लेकर चल रही है। बाजार से जिस प्रकार सकारात्मक रुझान मिल रहा है, उससे सरकार का उम्मीद है तो वे तय लक्ष्य को समय पूर्व भी हासिल कर सकते हैं। इन वाहनों की चार्जिंग के लिए सोलर और बायोमास जैसे विकल्पों पर भी काम किया जा रहा है।

भारत दुनिया का चौथा सबसे बड़ा अक्षय ऊर्जा क्षमता वाला देश

गौरतलब है कि भारत 145 गीगावॉट के साथ दुनिया की चौथी सबसे बड़ी अक्षय ऊर्जा क्षमता वाला देश है। सोलर पीवी सेल, घरों, मॉल, पार्किंग स्थल और कार्यालयों में पैनल सिस्टम के माध्यम से घरेलू EV चार्जिंग ईवीएस को अधिक सस्ता बना देगी। इसे अधिक सहज बनाने के लिए हाल ही में केंद्रीय पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस मंत्रालय (Ministry of Petroleum & Natural Gas) ने कई नियमों में बदलाव भी कर दिया है। पेट्रोल पंप मालिकों को पेट्रोल और डीजल की बिक्री शुरू करने से पहले ही EV Charging Stations और CNG Outlet स्थापित करने की अनुमति दे दी गई है।

Honda Electric Scooter: होंडा भी लाएगा इलेक्ट्रिक स्कूटर, Bajaj Chetak, Ola और Tvs iQube से होगा मुकाबला

EVCS में निजी कंपनियां भी कर रही निवेश

देश में इलेक्ट्रिक व्हीकल्स की बिक्री तेज होने के साथ ही इलेक्ट्रिक व्हीकल्स के लिए चार्जिंग स्टेशन सेटअप तैयार  करने का काम भी तेजी से हो रहा है। कंपनियां तेजी से इस सेक्टर में निवेश कर रही है। ऐसे में  Electric Vehicle सेक्टर में काम करने वाली कंपनी Revos एक शानदार ऑफर लेकर आई है, जिसके तहत आप सिर्फ 1 रुपए में चार्जिंग स्टेशन पॉइंट इंस्टॉल कर सकते हैं और कमाई शुरू कर सकते हैं।

Revos ने तैयार किया है दुनिया का सबसे चार्जिंग नेटवर्क

गौरतलब है कि Revos ने Electric Vehicles के लिए दुनिया का सबसे बड़ा चार्जिंग स्टेशन नेटवर्क तैयार करने का प्लान तैयार किया है। देश में पहली बार कोई कंपनी इतनी बड़ा इलेक्ट्रिक व्हीकल चार्जिंग नेटवर्क तैयार कर रही है। कंपनी की ओर से जानकारी दी गई है कि दीपावली के अवसर पर Bolt EV Charger पॉइंट लगाने की कीमत सिर्फ 1 रुपए निर्धारित की गई है। बाद में कंपनी इसी चार्जिंग स्टेशन पाइंट को करीब 3000 रुपए से ज्यादा कीमत में बेचेगी।

Revos कंपनी से फाउंडर मोहित यादव ने कहा कि  इस चार्जिंग पाइंट को कोई भी व्यक्ति अपने घर, दुकान या गैरेज में स्थापित कर सकता है। उन्होंने बताया कि पीले रंग के पाइंट चार्जर को टेलीफोन की तरह दीवार या खंभे पर लटकाया जा सकता है और इलेक्ट्रिक व्हीकल्स को चार्ज कर कमाई कर सकता है। कंपनी देश के 500 शहरों में इस तरह के 1 लाख EV Charger हर गली नुक्कड़ में स्थापित करने का प्लान कर रही है।

EV Charger लगाकर ऐसे कर सकते हैं कमाई

Revos कंपनी के संस्थापक मोहित यादव ने बताया कि इस चार्जर को कोई भी व्यक्ति कम्युनिटी लेवल पर पार्किंग स्पेस या RWA में लगा कर पैसे कमा सकता है। साथ इस में एक एनर्जी कैलकुलेटर भी लगाया गया है, जो यह जानकारी देगा कि इस चार्जिंग पाइंट से आपका बिजली बिल कितना आ सकता है। साथ ही इसमें पब्लिक या प्राइवेट उपयोग करने के लिए स्विच दिया गया है।

टाटा पावर ने अभी तक लगा चुकी है 1,000 EV चार्जिंग स्टेशन

Tata Power इलेक्ट्रिक व्हीकल सेक्टर में बड़ा निवेश कर रही है और अभी तक देश में 1000 से ज्यादा 1,000 इलेक्ट्रिक वाहन चार्जिंग स्टेशन लगा चुकी है। टाटा कंपनी ने अपना पहला EV Charging Station मुंबई में स्थापित किया था, लेकिन कंपनी ने देश के 180 से ज्यादा शहरों में करीब 1000 EV Charging Station स्थापित कर दिए हैं। टाटा पावर कंपनी देश के सभी राष्ट्रीय राजमार्गों को इलेक्ट्रिक व्हीकल्स चार्जिंग स्टेशन से जोड़ने की योजना बना रही है और नेशनल हाईवे पर करीब 10 हजार से ज्यादा चार्जिंग स्टेशन स्थापित करने की योजना तैयार कर रही है। टाटा पावर के CEO प्रवीर सिन्हा ने बताया है कि सार्वजनिक क्षेत्र में 1,000 EV चार्जिंग पाइंट स्थापित करके कंपनी ने देश में Electric Vehicles क्रांति के कई मील के पत्थरों में से पहला मुकाम हासिल कर लिया है।

टाटा पावर ने तैयार किया ‘ईजी रिचार्ज’ ऐप

EV Charging Station तैयार करने के साथ ही टाटा मोटर्स ने ग्राहकों के लिए एक सॉफ्टवेयर प्लेटफॉर्म भी तैयार किया है। टाटा पावर ने ‘ईज़ी चार्ज’ नाम से एक मोबाइल ऐप पर बनाया है, जो ग्राहकों को एक सरल और सीधा चार्जिंग अनुभव देगा। इस ऐप के माध्यम से वाहन चालक अपने आसपास के EV Charging Station को आसानी से खोज सकेंगे और Online Payment भी कर सकेंगे।

EV Charging Station को लेकर सरकार की नीति

साल 2019 में नीति आयोग ने “India’s Electric Mobility Transformation” नामक एक पत्र प्रकाशित किया था, जिसमें बताया गया था कि केंद्र सरकार का लक्ष्य है कि साल 2030 तक देशभर में इलेक्ट्रिक व्हीकल्स की भागीदारी बढ़ाई जाए। नीति आयोग ने बताया कि साल 2030 तक व्यावसायिक इलेक्ट्रिक व्हीकल्स की बिक्री 70 प्रतिशत, निजी इलेक्ट्रिक व्हीकल 30 प्रतिशत, बसों में 40 प्रतिशत और दुपहिया एवं तिपहिया वाहनों में 80 प्रतिशत होगी।

साल 2030 तक देश बचा लेगा 207 अरब डॉलर

नीति आयोग ने एक अनुमान जताया है कि यदि Electric Vehicle सेक्टर में इसी गति से बढ़ते रहे तो साल 2030 को लक्ष्य पूरी की पूरी उम्मीद है और साल 2030 तक 84.6 करोड़ टन कार्बन डाइऑक्साइड का उत्सर्जन कम होगा। साथ ही इस कारण से देश करीब 47.4 करोड़ टन तेल यानी 207.33 अरब डॉलर की बचत भी कर लेगा।

Electric Vehicle: देश में E-गाड़ियों की बिक्री में तेजी, सबसे ज्यादा बिके E-Auto